विश्वास

यह एक सच्ची घटना पर आधारित है। इसे आप संस्मरण कह सकते हैं।

————————————————————–

मैं
एक अदद पत्नी और तीन बच्चों के साथ
झांसी ‘प्लेटफॉर्म’ पर खड़ा था
भीड़ अधिक थी
खतरा बड़ा था
मेरे पास कुछ ज्यादा ही सामान था
जो कुली मिला वह भी एक बूढ़ा मुसलमान था !
पचास रूपये में ट्रेन में चढ़ाने का सौदा तय था
मगर मन में एक अनजाना सा भय था

रेल के आते ही आ गया रेला
भागम-भाग, ठेलम-ठेला
कुली ने फुर्ती से
पहले पत्नी-बच्चों को
फिर मुझे
यूँ सामान सहित ट्रेन में धकेला
मानों मै भी हूँ
कोई सामान जैसा
फिर जोर की आवाज लगाई
साहब पैसा !!

मैं चीखा-
बच्चे कहाँ हैं ?
वह बोला-
ट्रेन के अंदर !
बच्चों की अम्मा कहाँ है ?
ट्रेन के अंदर !!
मेरा सामान कहाँ है ?
कुली झल्लाया-
आपका सामान आपके पास है
और आप भी हैं ट्रेन के अंदर !!!
मेरा पैसा दीजिए
फुर्सत में
सबको ढूँढ लीजिए।

तभी बीबी-बच्चों की आवाज कान में आई
मेरी भी जान में जान आई
जेब टटोला
बस् सौ का नोट था
बोला-
सौ का नोट है
पचास रूपये दो
वह भीड़ में चीखा-
नोट दीजिए आपके पैसे लौटा दुँगा
मैने कहा-ये लो।
उसने सौ का नोट लिया
और गायब हो गया
मैं मन मसोस कर
अपना सामान और जहान समेटने लगा

सोंचा
मेरी ही गलती थी
पचास का छुट्टा रखता
तो धोखा नहीं खाता
आज के ज़माने में
किस पर यकीन किया जाय !
यह क्या कम है
कि मेरा सभी सामान सही-सलामत है !!

सीटी बजी
ट्रेन पटरी पर सरकने लगी
सह यात्रियों की हंसी
मुझे और भी चुभने लगी
हें ..हें…हें… आप भी कमाल करते हैं !
ऐसे लोगों पर भी विश्वास करते हैं !!

तभी खिड़की से
एक मुठ्ठी भीतर घुसी
कान में हाँफती आवाज आई
साहब
आपका पैसा
फुटकर मिलने में देर हो गई थी…
मैने जल्दी से नोट लपका
और खिड़की के बाहर झाँक कर देखने लगा…..

प्लेटफॉर्म पर
दूर पीछे छूटते ”ईमान” के चेहरे पर
गज़ब की मुस्कान थी !
उसके दोनो हाथ
खुदा की शुक्रिया में उठे थे
मानों कह रहे हों
हे खुदा
तू बड़ा नेक है
तूने मुझे
बेइमान होने से बचा दिया

हम
बहुत देर तक
पचास रूपये के नोट को देखते रहे

मेरे क्षुद्र मन और सहयात्रियों के चेहरे की हालत
देखने लायक थी।

पचास रूपये का नोट तो कहीं खर्च हो गया
मगर आज भी
मैं अपनी मुठ्ठी में
विश्वास और भाईचारे की
उस गर्मी को महसूस करता हूँ
जो उस गरीब ने
नोट में लपेटकर मुझे लौटाया था

जिसे
जीवन की आपाधापी में
सहयात्री
गुम होना बताते हैं।

Advertisements

20 thoughts on “विश्वास

  1. प्लेटफॉर्म परदूर पीछे छूटते ''ईमान'' के चेहरे परगज़ब की मुस्कान थी !उसके दोनो हाथखुदा की शुक्रिया में उठे थेमानों कह रहे होंहे खुदातू बड़ा नेक हैतूने मुझेबेइमान होने से बचा दिया———————पचास रूपये का नोट तो कहीं खर्च हो गयामगर आज भीमैं अपनी मुठ्ठी मेंविश्वास और भाईचारे कीउस गर्मी को महसूस करता हूँजो उस गरीब नेनोट में लपेटकर मुझे लौटाया थाkitna badaa sach hai, beimaanon ke madhya hi imaan pasine se tar-batar hota hai

  2. aaj hi hm bhi ek aisi hi ghatna se rubaroo hue hain ,itna hi kahna chahoongi ki insaaniyat abhi khatam nahi hui,kam jaroor hui hai bus anupaat thoda gadbad ho gaya hai ,jo sochne par majboor kar deta hai ki aakhir iske liye kaun jimmedaar hai ,kahi…………..

  3. लोग कहते हैं कि दुनिया साँप के फ़न, कछुए की पीठ या गाय के सींग पर टिकी है..मगर मुझे लगता है कि यह दुनिया ऐसी ही ईमानदारी, विश्वास के कंधों पे टिकी है..और हमारा फ़र्ज है कि वो कंधे सलामत बने रहें..जिंदगी की खूबसूरती लिये एक अनुभव बाँटने के लिये शुक्रिया

  4. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! सच्चाई तो यही है कि आज के ज़माने में ऐसे ईमानदार इंसान ढूंढने से भी नहीं मिलते! वो पचास रुपया खर्चा होना तो जायज़ था पर उस छोटी सी बात को आप ज़िन्दगी भर याद रख सकते हैं! गरीब आदमी था पर उसके मन में कोई खोट नहीं था और न कभी ठगने के बारे में सोचा बल्कि उस सौ रूपये का छुट्टा करवाके दौड़ते दौड़ते आपको पचास रुपया लौटाया!

  5. प्लेटफॉर्म परदूर पीछे छूटते ''ईमान'' के चेहरे परगज़ब की मुस्कान थी !उसके दोनो हाथखुदा की शुक्रिया में उठे थेमानों कह रहे होंहे खुदातू बड़ा नेक हैतूने मुझेबेइमान होने से बचा दियावाह….वाह ….वाह…..देवेन्द्र जी ऐसी घटनाएं तो सभी के साथ होती रहती हैं पर आपने इसे शब्दों में गज़ब का पिरोया …..लाजवाब…..!!

  6. Wah Devendraji !Ghatana bhi Khoobssorat aur aapaki banya karane ki shaili bhi khoobsurat……ek pyarese yadgar pal ko aapane banya is tarah kiya,ki us par char chand lag gaye.Khubasurat yadagar ghatananye aapake sath hoti ranhe aur aapaki lekhani chalati rahe.

  7. बहुत खूबसूरत अहसास लिए संस्मरण.कभी कभी हम अपनी ही असुरक्षित भावनाओं में बहकर , गलत सोच लेते हैं. आज भी इमानदार लोग दुनिया में हैं. अच्छा उदहारण.

  8. dhanyvad mere blog par aane ka .Insaaniyat abhee jinda hai…..aisee ghatnae dilo par chap chod jatee hai .aise bhee jhansi se mujhe bahut lagav bhee hai .mere pati aur pitajee douno kee janmbhoomee Jhansi hai .aaj pahalee var hee aapake blog par aai hoo bahut sunder aapbbtee padane ka soubhagy mila .aabhar .

  9. मानों कह रहे होंहे खुदातू बड़ा नेक हैतूने मुझेबेइमान होने से बचा दियाबहुत सुंदर लगा आप का यह संस्मरणईमान आज भी जिन्दा है.धन्यवाद

  10. kal me Jhansi ja rahee hoo parivar me ek shadee hai . Mujhe maloom hai meree aankhe barbas hee us Kulee ko talashengee jisane naa jane kitano ke man me phir se vashvas aur imaandaaree me aastha paida kar dee . mere liye to vo shakhs Laxmeebai , dhyanchand jee , maithelee sharan jee.v Vrundavanlal vermaji se kam nahee .badhai

  11. देवेन्द्र जी,आपके ब्लाग पर कई रंग देखने को मिले.सबसे ज्यादा ''मां'' और ''पिता जी'' ने प्रभावित किया.जनाब निदा फाज़ली कहते हैं—बीवी, बेटी, बहन, पडोसन, थोडी थोडी सी सब मेंदिन भर इक रस्सी के ऊपर चलती नटनी जैसी मांआपने मां की इसी कशमकश को अपने शब्दों में खूबसूरती के साथ पेश किया है..मैंने आपके ब्लाग को अपनी लिस्ट में शामिल कर लिया हैशाहिद मिर्ज़ा शाहिद

  12. मेरे अनुभव को सह्रदयता से महसूस करने और अपनी विस्तृत टिप्पणियों से मेरा उत्साहवर्धन करने के लिए मैं आप सभी का तहेदिल से शुक्रगुजार हूँ ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s