आत्मा की बेचैनी और भूखा भेड़िया

आत्मा की बेचैनीः-
आज रविवार है, कविता पोस्ट करने का दिन । मैने रविवार को कविता पोस्ट करने का दिन इसलिए रखा कि यह छुट्टी का दिन है, आराम से कविता पोस्ट करूँगा और दूसरे के ब्लाग में जाकर दिनभर कमेंट टिपटिपाता रहूँगा लेकिन हाय री किस्मत ‘बिजली रानी’ मेरे इस कवित्त प्रेम को बर्दाश्त नहीं कर पाई। सौतन बन कहने लगी, “अच्छा तो यह बात है, मैं तेरे जगते ही दिनभर के लिए चली जाउंगी ! वो मेरे निश्चय का दिन और ये बिजली रानी का कातिलाना व्यवहार, मेरे शहर में बिजली सुबह ९ बजे से दिनभर गायब रहती है और देर शाम ढले ६ बजे के बाद मुंह चिढ़ाते हुए आ जाती है ! बेशर्मी से पूछती है, “क्यों बेचैन आत्मा, क्या किया दिन भर ? बड़े आए थे ब्लाग-ब्लाग घूमने….उहं !

मैं भी कहाँ मानने वाला था। मैने भी तय कर लिया कि ब्रह्म-मुहूर्त में ही जागकर कम से कम अपनी कविता तो जरूर पोस्ट कर दुंगा। देखता हूँ ये ‘बिजली रानी’ मेरा क्या बिगाड़ लेती है ! तब से हर इतवार ब्रम्हमुहूर्त में ही उठकर कविता पोस्ट करता हूँ। लेकिन आज ? हाय !! लगता है सभी सरकारी विभाग मेरी ब्लागरी के दुश्मन बन गए हैं। आज सुबह ४ बजे जब मैने नेट आन किया तो देखा, लिंक ही नहीं मिल रहा है ! फोन की नाड़ी टटोली तो अवाक रह गया एक भी धड़कन सुनाई नहीं दी ! आत्मा बेचैन हो गई। अरे,.. यह तो डेड है ! तो लिंक कैसे मिलेगा ? अरे, करमजले बी०एस०एन०एल, तू ने कब से बिजली रानी से दोस्ती कर ली..? वह तो अभी है, तू कहाँ मर गया ? अब इतनी सुबह कौन आए मेरी मदद करने ! फिर सोंचा, मैं ही चला जाता हूँ किसी साइबर में बैठकर कविता पोस्ट कर दुंगा.. लेकिन इतनी सुबह कौन साइबर खुलेगा !

अब आप कल्पना कर सकते हैं कि मैं सुबह से कितना बेचैन था। साइबर खुला तो आ गया कविता पोस्ट करने लेकिन बेचैनी में कविता की डायरी घर ही भूल गया ! अब मैं क्या करूँ ? सोंचा यही लिख दूँ जो हुआ है। बाकी सब आपकी दुआ है। ईश्वर से मनाइए कि बी०एस०एन०एल० अच्छी सेवा देने लगे, बिजली रानी दिनभर रहे और बेचैन आत्मा की बेचैनी कुछ कम हो।

भूखा भेड़ियाः-

अभी एक बात और याद हो आई। ताउ डाट काम के फ़र्रुखाबादी विजेता (159) पहेली में एक चित्र था….एक जानवर की चार टांगों के बीच छुपा दूसरा भूखा जानवर । जब मैने चार टांगे देखीं तो दिमाग पर जोर दिया, कहीं यह भारत का लोकतंत्र तो नहीं ! सुना है कि लोकतंत्र की भी चार टांगे होती है। दिमाग में कीड़ा रेंगा- कहीं यह गधा तो नहीं !! ध्यान से देखा.. गधा ही था। अब प्रश्न शेष था कि इन चार टांगो के बीच भूखा जानवर कौन हो सकता है ? मेरे आँखों के सामने बहुत से चित्र आ-जा रहे थे। शरारती दिमाग ने तुरंत पहचान लिया……भूखा भेड़िया !! मैने तुरंत उत्तर लिखा – “गधा और भूखा भेड़िया” । कहना न होगा कि दूसरे दिन मैं ही विजेता घोषित हो गया। क्यों ? है न मजेदार बात ! इसी पर एक कविता लिखने का प्रयास करता हूँ देखिए क्या होता हैः-

भूखा भेड़िया




पहेली में चित्र था

बहुत बढ़िया

गधे की चार टांगों के बीच

भूखा भेड़िया !

सभी ने कहा

गधा,

बंधा है.

परतंत्र है.

मैने कहा

नहींऽऽ

यह

आधुनिक भारत का लोकतंत्र है !

दुःख इस बात का है

कि मेरी बात को आपने

अधूरे मन से माना

लोकतंत्र की चार टांगे तो पहचान लीं

भेड़िये को

अभी तक नहीं पहचाना !

भेड़िये को

अभी तक नहीं पहचाना !
Advertisements

2 thoughts on “आत्मा की बेचैनी और भूखा भेड़िया

  1. बहुत सुंदर लगी आप की यह रचना, अब काम की बात हम सब गधे है गरीब, नरीह ओर यह नेता है भुखे भेडिये जो हर समय हमे नोच रहे है, हमारा मंस खा रहे है, आओ इन्हे दुल्लती मारे

  2. भाई, पहले तो इतनी मेहनत से पोस्ट लिखने की बधाई। सचमुच ये तो बड़ा बहादुरी का काम किया इस ठण्ड में। फोटो में गधे के टांगों के बीच बैठा भेड़िया पहचान कर आपने कमाल कर दिया । यही नहीं फिर लोकतंत्र में छुपा भेड़िया— क्या खूब कहा है। अति सुन्दर।

  3. देवेन्द्र जी ……. ये भेड़िया अपनी खाल बदलता रहता है …….. कभीं लोकतंत्र, कभी भोगतनत्र, कभी समाजवाद, कभी सांप्रादायक, तो कभी साम्यवाद का चोला ……… कभी ग़रीबी हटाओ का नारा, कभी दूर दृष्टि, पक्का इरादा तो कभी शाइनिंग इंडिया का नारा, ……… लोग पहचानें भी तो कैसे ………. शुक्र है आप अपनी पोस्ट तो डाल सके नही तो इनको पता चलता तो वो भी न करने देते ……..

  4. वाह अब समझ आया कि आपके ब्लॉग काअ नाम बेचैन आत्मा क्यों है..बिजली का हाल ऐसा है कि अगर कबीरदास भी ब्लॉग पोस्ट करने की आपकी समस्या से जूझते तो यही कहते ’बिजली महा ठगिनि हम जानी’..खैर आप चाहे तो पोस्ट को ब्लॉग पर पहले ही डाल कर रविवार की सुबह के लिये शेड्यूल कर सकते हैं.. तो वह आपके नियत समय पर स्व्यं प्रकाशित हो जायेगी.और लोकतंत्र के बारे मे आपने सही पहचान की है..मगर जैसा कि चित्र मे है कि गधे की किस्मत तो भेड़ियों के हवाले ही है सो क्या होगा..और गधे की यही नियति भी है.

  5. waaah ji aaj apki baichain rachna ne kya baichaini ka sama bandha…kamaal ho gaya. bsnl ki baichaini bhi khoob kahi aur anterjaal ki bhi ham to padhte hi reh gayi aur uspar gadha aur uski char tange aur us per turra ki niche chhupa bhediya…kya dimag daudaya hai ji…filhaal to ye bhediya mujhe loktantr me Mehengaayi hi lag rahi hai jo aam janta ko khaye ja rahi hai….bahut khoob acchhi rachna. badhayi.

  6. बहुत सुन्दर लिखा है आपने! आपका ये पोस्ट मुझे बेहद पसंद आया!

  7. आज का दिन तो बड़ा प्यारा है घर में बिजली है नेट हमारा है आज अभी जब घर आया तो देखा नेट चालू है बी०एस०एन०एल० के कर्मचारियों ने मेरी गुहार एक दिन में सुन ली. चमत्कार हो गया …! कमेन्ट पढ़ कर संतोष हुआ की मेरी मेहनत व्यर्थ नहीं गयी. अपूर्व जी को धन्यवाद की उन्होंने एक बढ़िया सलाह दे दी.. उस पर अमल करूँगा.

  8. सर जन्म दिन की अग्रिम बधाई के लिए बहुत बहुत धन्यवाद . आपका ब्लॉग देखा , बहुत अच्छी प्रस्तुती है .

  9. गधे को तो आपने देश के लोकतंत्र का प्रतिक बना दिया मगर दूसरा जानवर किसका प्रतिक है?

  10. दो दिन से अपने साथ भी कुछ ऐसा ही हुया और मैने भी ऐसे ही पोस्ट लिखी आपको पहेली जीतने पर बहुत बहुत बधाई।लोहडी की भी बधाई पोस्ट बहुत रोचक लगी।

  11. पहेली जीतने पर बधाई ।कविता भी बहुत अच्छी बनाई ।पर ये बात मेरी समझ मे न आई ।मुझे परेशान करने वाली बिजली आपको भी परेशान करने चली आई

  12. आपने हमारे लिए पहेली खड़ी कर दी है, एक तरफ बी.एस.एन.एल. तो दूसरी तरफ बिजली, इधर पहेली में लोकतंत्र रूपी गधे की टांगों में बैठे भेड़िए की शिनाख्त तो उसके बाद कविता. अब किसकी प्रशंसा करें, किसे छोड़ दें. यह पहेली आपके लिए छोडी.

  13. वाह बहुत बढ़िया देवेन्द्र जी सच कहा आपने हमारी भारत की जनता बहुत ही नादान है जो अभी तक भेड़िए को पहचान नही पा रही है जो धीरे धीरे हमारे इस लोकतंत्र को टुकड़े टुकड़े कर के खाते जा रहे है….एक सुंदर कविता और उसमें निहित एक बेहतरीन विचार…ग़ज़ल की बात कही…बहुत अच्छा लगा…धन्यवाद देवेन्द्र जी

  14. जी हाँ साहिब…भेदिया ही है…और भूखा तो वो हमेशा ही रहता है…हमेशा..

  15. आपकी लेखनी बहुत सशक्त है…आपकी बात कहने की कला प्रभावशाली है…और चित्र तो आज के सन्दर्भ में बिलकुल सटीक है…गधों का साम्राज्य भेड़ियों के हाथों ही तो चल रहा है….वो भी किसिम किसिम के भूखे भेड़िये…बहुत रोचक आपबीती…आभार..

  16. में सनतोस, मेंरे स1त 4,आत्मा र्अह्ति हे.में आत्मा के बअरे में स्अब बात बता सकता हूँ -मो-09810773638.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s