तालमेल

कभी सोचा है ! एक अकेली सड़क को कितने लोग खोदते हैं ? टेलीफोन वाले, बिजली वाले, पानी वाले, सीवर वाले, ओवरब्रिज बनाने वाले, शादी के पंडाल वाले, रामलीला मैदान वाले, और भी बहुत से लोग जिन्हें मैं नहीं जानता . मजे की बात यह है कि एक खोदता है, मतलब साधता है और चल देता है, दूसरा खुदी हुई सड़क के बनने का इंतज़ार करता है कि कब बने और मैं खोदूँ ! किस्मत की मारी सड़क खुदाई तंत्र के दंश झेलती जिए जाती है यूँ ही सालों साल.

प्रसिद्द व्यंग कवि ‘बेढब बनारसी’ आजादी से पहले मिली अंग्रेज मेजर, “लंफटट पिगलस” की डायरी के माध्यम से लिखते हैं कि ‘बनारस की सड़कें ऐसी हैं, जिनपर खेती की जा सकती है’ !

आभागी सड़क ! तब से लेकर आज तक, बार-बार सुनती है उस माँ का श्राप, जिसका बच्चा गिरकर मर गया गढ्ढे में, उस दद्दू की गालियाँ, टूट चुकी हैं जिनकी टाँगे या फिर उन मोटर साईकिल वालों की मतरिया-बहनियाँ, जो गिरकर संभल जाते हैं अपनी किस्मत से .

यकबयक भरने लगे गढ्ढे, चलने लगे रोलर, गिरने लगे गिट्टियाँ, पिघलने लगे तारकोल तो खुशी के मारे उछल मत पड़ना कि अरे..! टेलीफून विभाग वाले जिस सड़क को खोदकर गए थे वह इतनी जल्दी बनने जा रही है ! दरअसल हुआ यों होगा कि सीवर के लिए पाईप बिछाने वालों ने फोन कर दिया होगा, सड़क बनाने वालों को कि जाओ, जल्दी अपना बज़ट बनाओ, माल खपाओ, हम आ रहे हैं सीवर लाईन के लिए पाईप बिछाने ! फिर ना कहना कि बताया नहीं ! लो जी, कर लो बात ! एक फसल कटी नहीं कि दूजी हो गयी तैयार ! इधर सड़क बनी नहीं, कालोनी वाले ‘मार्निंग वाक’ का मूड बना ही रहे थे कि आ गए सीवर वाले अपना ताम झाम लेकर !

शर्माजी की हालत देखते ही बनती थी. बिचारे मार्निंग वाक का सूट भी ले आये थे बाजार से ! बड़े अरमान से पहन कर निकले तो क्या देखते हैं कि सड़क पर बोर्ड टंगा है …”सावधान! आगे रास्ता बंद है . सीवर के लिए पाईप बिछाने का कार्य प्रगति पर है.” बोर्ड पढते ही शर्मा जी हत्थे से उखड़ गए. दिन भर पूरी कॉलोनी को माथे पर उठाए रहे.

“ये तो कोई बात नहीं हुई ! जो तुरंत खोदाई करनी थी तो बनायीं ही क्यों ? ये सरकारी विभाग वाले आपस में तालमेल क्यों नहीं करते ? जनता की गाढ़ी कमाई सरे आम बर्बाद कर रहे हैं !” मैंने सलाह दिया, “अरे, नाहक यहाँ चीखने से क्या होगा ? यदि आप वास्तव में अपनी बात सरकार तक पहुँचाना चाहते हैं तो अपने विधायक जी से इसकी शिकायत कीजिए. आखिर वो हैं किस मर्ज की दवा !”

शाम को शर्मा जी पान की दूकान पर पान घुलाये, मुहँ फुलाए, चुपचाप जुगाली की मुद्रा में बैठे दिखाई दिए. मुझे देखते ही पान यूँ थूका मानों ज्वालामुखी को फूटने के लिए इसी पल का इन्तजार था ! मैं हडबड़ा कर संभल गया वरना पान से मेरी पैंट लाल हो जाती ! फिर भी कुछ छींटे तो पड़ ही गए.

मैंने कहा, ” संभल के शर्मा जी, क्या बात है ? गए थे विधायक जी के पास ? क्या हुआ ?”

शर्मा जी छूटते ही बोले, ” आप भी न ! …कवियों के चक्कर में जो पड़ा समझो जलालत हाथ लगी ! विधायक जी उल्टे मेरा ही मजाक उड़ाने लगे. उनके गुर्गे मुझ पर ऐसे हंस रहे थे मानो दुनियाँ का सबसे मूर्ख आदमी मैं ही हूँ. ”

मैंने कहा, ” अरे शर्मा जी क्या हुआ ? कुछ तो बताइए !”

होना क्या था, विधायक जी मेरा मजाक उड़ाते हुए कहने लगे..” लो भाई, सुन लो, इतनी मेहनत से सीवर लगवाने का इंतजाम किया तो भाई लोग इसमें भी नुख्स निकालने लगे ! भलाई का तो जमाना ही नहीं रहा. कुछ दिन परेशानी सह लीजिए भाई साहब, पूरी जिंदगी मज़ा भी तो आप ही लेंगे.” मैंने उनको समझाया कि ठीक है, पाइप लाईन बिछा रहे हैं मगर थोड़ा सा तालमेल हो जाता तो सड़क बनाने का पैसा तो बच जाता ! लेकिन वो कहाँ सुनने वाले कहने लगे, ” आम खाईये, गुठलियाँ मत गीनिये ! ये तो राज-काज है. मैं भी क्या करता अपना सा मुँह लेकर चला आया.

अब शर्मा जी को कौन समझाए कि ये जो हो रहा है, ‘तालमेल’ से ही हो रहा है ! सरकारी विभागों में तालमेल इस बात तो लेकर नहीं होता कि कैसे राष्ट्र का धन अपव्यय होने से बचाया जाय ! हाँ, इस बात को लेकर जरूर हो सकता है कि ……………………………………………………

कभी सोचा है !
Advertisements

35 thoughts on “तालमेल

  1. sub kuch dekhte bhee aankhe band kiye baithe hai kisee ko kisee se koi sarokar nahee ……..kahavat hai na bhens ke aage been bajane se koi fayda nahee……….

  2. तालमेल तो है जी सब सरकारी दफ़्तरों का।Minimum optimization in maximum expenditure, ताकि जबरिया टैक्सधारकों की खून पसीने की कमाई का सबसे बढि़या तरीके से दुरूपयोग किया जा सके।

  3. बिलकुल सही लिखा, कभी कभी तो लगता है कि पागलो की सरकार ही है.. ना कोई कानून ना कोई नियम. बहुत सुंदर ओर सटीक लिखा है

  4. aadrniy bhaai aapne to juvlnt muddaa uthaaya he lekin bhaai aek aadh kisi sdk khodne vaale ke khilaaf sidhaa muqdmaa drj kraa do taake aese paapi ko sbq mile . akhtar khan akela kota rajasthan my blog akhtarkhanakela.blogspot.com

  5. एक दिन ऑफिस देर से पहुँचा, कारण सिर्फ यही था कि सड़क खुदी थी और ट्रैफिक जाम था… हेड ऑफिस से फोन था, जब मैं ने फोन करके कारण बताया तो उधर से जवाब आया, “क्या बात है ! तभी चल रहा है तुम्हारा शहर. हर तरफ खुदा ही खुदा है.” आपने जिस खुदाई का ज़िक्र किया है, हर कोई पीड़ितहै उससे… एक आम आदमी की वेदना..

  6. सही कहा आपने ये तालमेल न करने का तालमेल है.. एक जोक था – एक सडक पर एक आदमी गडढा खोद्ता जा रहा था और दूसरा उसे पाटता जा रहा था… एक बैचैन भाई ने उससे पूछा कि भाई ये क्या कर रहे हो.. आप खोद रहे हो.. वो पाट दे रहे है तो वो लोग बोले कि ’ दरअसल हम तीन लोग है.. एक का काम गडढा खोदना है, दूसरे की उसमे पौधा लगाना और तीसरे का मिट्टी पाटना.. दूसरा वाला आज छुट्टी पर है’ 🙂

  7. दुर्भाग्य यही है कि यह 'तालमेल' बढ़ता ही जा रहा है.और इसका कोई इलाज नजर नहीं आता.

  8. यह तो बहुत ही खतरनाक तालमेल बताया आपने.सडकों की खुदती-बनती हुई क्रमों को यादकर लगाकि सायद येसा ही होता होगा.मगर ये तो सरासर बेईमानी है और इसतरह के तालमेल बनाने वालों के विरोधमे कुछ करना होगा आज के युवा वर्ग को.

  9. अजी आपकी बात तो सही हैं लेकिन क्या करे तालमेल हैं तो सही, लेकिन गलत जगह???बहुत बढ़िया लिखा हैं आपने.बेहतरीन और जनहित के मुद्दे को उठाने के लिए हार्दिक आभार.WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

  10. लफटन पिग्सन की खूब याद दिलाई आपने…बचपन याद आ गया जब इस किताब को पढ़ा था…वाह…आपका ये आलेख भी कुछ कम नहीं…शब्द कौशल कमाल का है आपका…बहुत रोचक पोस्ट…नीरज

  11. अब तालामेल कहाँ!! अब तो ताल ठोकने पर ही मेल हो पाता है.सुन्दर रचना

  12. मजे की बात है हमारे यहाँ भी चौड़ीकरण के नाम पर पिछले एक पखवारे से सड़क अपने दोनो किनारों पर खुदी पड़ी है..और रोज शाम की बारिश सुबह तक सड़क को दो तरणता्लों के बीच लेट कर धूप सेंकती छोरी मे तब्दील कर देती है..और तरणताल ऐसे कि देश मे खेल-सुविधाओं की कमी का रोना रोने वाले लोग अगर अपने बच्चों को तैराकी की प्रैक्टिस करने भेज दें तो ओलम्पिक मे मेडल के ढेर लग जायेंगे..मगर खासकर रात मे जब अक्सर स्ट्रीटलाइट्स भी किसी रीतिका्लीन स्वाधीनपतिका नायिका की तरह रात भर रूठी रहती है..तब सड़क के किनारे के उन गड्ढों मे किसी के भी जीवन की गाड़ी के अधोपतन की पूरी गुंजाइश होती है..और खोदने वाले भी उसे अगले सावन तक के लिये भूल गये हैं..पढ़ कर यही लगता है कि भारत मे विविधिता मे भी कितनी एकता है..विविध जगहों पर एक जैसी समस्याएँ..देवभूमि ही है हमारा देश जहाँ हर जगह ’खुदा’ है!लंफ़टट पिगलिस के बारे मे नही सुना कभी..पता करना पड़ेगा…

  13. इस पूरी कवायद में सड़कें सड़कें न होकर गड्ढे में तब्दील हो गयीं हैं…..राष्ट्रीय संपत्ति का इस तरह नुक्सान हमारे देश में ही संभव है दोस्त है……..विचारपरक पोस्ट लिखने का आभार.

  14. देर से आने का भी मज़ा है…एक खोदता है और दूसरा पाट देता है ……और तीसरा छुट्टी पर …..वाह क्या बात है …..वो खोदते रहे जिस्म मेराकभी आह न आई लबों पेकभी जो मैं भी समा लूँ …तो आह न करना …..

  15. जहां जहां टीप किया रहता हूँ , वहाँ – वहाँ एक बार गश्त करने जाता हूँ , बाव-बयार लेने के लिए ! यहाँ पढ़कर गया था पर टीपा नहीं था और आया यह समझ के आज कि यहाँ टीप चुका हूँ ! सो 'देर आयद' , दुरुस्त काहे कहूँ ! तालमेल कहाँ नहीं है ! व्यावहारिक जगत का यह बड़ा कामयाब फलसफा है | मरीज , मेडिकल स्टोर वाले और डाक्टर के बीच के कुछ बड़े दिलचस्प तालमेल के किस्से घटे हैं मेरे सामने ! इसी तरीके से झाड़-फूंक वाले ओझा और दिव्य-शक्तियों से पीड़ित लोगों के बीच का तालमेल भी कम लाजवाब नहीं है | पुलिस और चोर – उचक्कों के बीच का तालमेल तो सब जानते ही होंगे | आप इन सब विषयों को भी छुएं तो और मजा आये , ऐसा निवेदन – मात्र है ! अच्छा लगा सरकारी तालमेल का नजारा देखकर ! आभार !

  16. सरकारी विभागों में तालमेल इस बात तो लेकर नहीं होता कि कैसे राष्ट्र का धन अपव्यय होने से बचाया जाय !!!सौ पैसे सही…यथार्थ को व्यंग्यात्मक लहजे में बयान कर आपने उसे और धारदार बना दिया….सार्थक सटीक और बहुत ही बेजोड़ लेखन है आपका…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s