बहत्तर वर्षीय बुजुर्ग

धूप से उज्ज्वल सफ़ेद बाल
गाल
जैसे कश्मीरी सेव
लाल-लाल

मार्निंग वॉक में मिले
एक बहत्तर वर्षीय बुजुर्ग
अपनी धुन में मस्त
तेज थी उनकी चाल !

मैंने छेड़ा…
श्रीमान,
वृद्ध होकर भी आप दिखते हैं जवान !
अपने चिर युवा होने का राज बताइये ?
जरा धीरे चलिए
मुझे यूँ न दौड़ाइए !

अँधेरा छटते ही
बूढ़ा सूरज
चिड़ियों की तरह चहचहाने लगा

सामान्य परिचय के बाद
अपनी कहानी और जीवन दर्शन
हँसते हुए
यूँ सुनाने लगा..

पाँच वर्ष पहले
पत्नी का स्वर्गवास हो गया
अकेला हूँ, विश्वास हो गया.

एक वर्ष पहले
तीसरा सबसे छोटा बेटा भी
अपने दो बड़े भाइयों की तरह
बहू की आँखों का तारा हो गया
अपना घर बसा कर
गृहस्थी का मारा हो गया
देखते ही देखते
बहुत बड़ा हो गया
अपने पैरों पर खड़ा हो गया .

दो बेटियाँ थीं
दोनों की शादी कर दी
अब घर में कोई शोर नहीं है
सर में कोई बोझ नहीं है
प्रभु भजन में कोई रोक नहीं है

सभी मुझे अपने घर बुलाते हैं
मगर मैंने सभी से कह दिया है
यहीं रहूँगा .

बड़ी मेहनत से
तीस साल पहले यहाँ घर बनाया था
इसमें मेरी पत्नी की यादें बसती हैं
इसमें मेरे बच्चों की
मौन किलकारियाँ गूँजती हैं
इसकी हर ईंट
मेरे संघर्ष की सीमेंट से जुडी है
इसे छोड़कर कहीं नही जाऊँगा .

यहाँ हर तरफ मौज ही मौज है
जितना जीना था जी लिया
अब तो हर सांस बोनस है
मैं हर पल
जिंदगी का मजा ले रहा हूँ
ईश्वर को धन्यवाद दे रहा हूँ

अच्छा, अब चलूँ …!
हर रोज इस मार्ग से प्रवेश करता हूँ ..
नमस्कार !

हाँ, हाँ, जानता हूँ…..
बाग में प्रवेश करने का
वह छोटा और सीधा रास्ता है
मगर आदत से लाचार हूँ
अपने द्वारा निर्धारित मार्ग और सिद्धांतों पर ही चलना पसंद करता हूँ
नमस्कार…..!!

इतना कह कर
मुस्कुराते, हाथ हिलाते,
वे चले गए
मैं अपलक
देर तक
उन्हें जाते देखता रहा .

ठीक वैसे ही
जैसे कोई मझधार में फंसा व्यक्ति
किनारों को
हसरत भरी निगाहों से देखता है.

( चित्र गूगल से साभार )

Advertisements

44 thoughts on “बहत्तर वर्षीय बुजुर्ग

  1. मुझे तो यूं लगा की जैसे यह संवाद अतीत और भविष्य के दरम्यान चल रहा हो !

  2. बड़ी ही सहजता से संवादों का आदान प्रदान आप ने कविता में ढाल दियाये आज के कुछ बुज़ुर्गों का सच है जो उन की positive सोच के सामने हार जाता हैबहुत अच्छी रचना

  3. सही कह रहे हैं। बहुत बार बेटे बहू चाहते हैं तो भी ये वृद्ध जन अपना घोंसला नहीं छोड़ते। उनके लिए यह ठीक भी है।

  4. प्रेरणा देती रचना। अमेरिका निवास के दौरान चाहे आपके ब्लाग पर नही आ सकी मगर आपके ब्लाग का नाम रोज़ दिमाग मे और जुबान पर घूमता था वो यूँ कि मेरी नातिन बहुत शरारती है बहुत कम सोती है सोने से कतराती है तो मै उसे बैचैन आत्मा कह कर बुलाती थी। कई बार किसी चीज़ का नाम ही उसकी अहमियत बढा देता है। शुभकामनायें

  5. यहाँ हर तरफ मौज ही मौज हैजितना जीना था जी लियाअब तो हर सांस बोनस हैमैं हर पलजिंदगी का मजा ले रहा हूँईश्वर को धन्यवाद दे रहा हूँइन्ही पंक्तियों में जिंदगी का फलसफा है ।जो इसे समझ लेता है वही सुखी होता है , चेहरे पर लाली लिए हुए ।सुन्दर प्रस्तुति , सरल शब्दों में ।चित्र देखकर भी सकून सा मिला है ।कृपया हैडर में लगे चित्र को यदि थोडा छोटा कर दें , ताकि पूरा चित्र फ्रेम में आ जाये तो बहुत आनंद आएगा ।हमें तो देखकर ऐसा लगता है जैसे अंतरिक्ष से पृथ्वी का नज़ारा देख रहे हों ।

  6. बड़ी मेहनत सेतीस साल पहले यहाँ घर बनाया थाइसमें मेरी पत्नी की यादें बसती हैंइसमें मेरे बच्चों कीमौन किलकारियाँ गूँजती हैंइसकी हर ईंटमेरे संघर्ष की सीमेंट से जुडी हैइसे छोड़कर कहीं नही जाऊँगा … yahi prapy hai

  7. सुन्दर अति -सुन्दर.वाह पढकर आनंद आ गया.मगर अभी से इतनी हसरत भरी नज़रों से किनारोंको देखना छोड दीजिये.अगर खुदा ने चाहा और कुछ ब्यायाम नियमित रूप से करना शुरू करें तो क्या पता आप भी किनारे नजर आयें भविष्य में.

  8. बहुत खूब … जीवन व्रतांत में बहुत उपयोगी बात सीखा दी आपने … सच में जीवन भरपूर जीना चाहिए … अपने नियमों पर जीना चाहिए … अच्छी रचना ..

  9. @डा० साहब… छोटा करने के चक्कर में हैडर का चित्र गायब हो गया. एक घंटे लगा कर ढूँढा तो वैसा नहीं लगा जैसा आप चाहते थे..! क्या करूँ अभी सीख रहा हूँ न.

  10. जीवन को अपनी शर्तों पर जीना व अन्ततः स्वयं से सन्तुष्ट हो पाना अपने आप में एक बड़ी बात है । प्रेरणास्पद कविता ।अच्छी लगी ।

  11. ठीक वैसे हीजैसे कोई मझधार में फंसा व्यक्तिकिनारों कोहसरत भरी निगाहों से देखता है…….बहुत लाजवाब

  12. My mother left us in April 2007. Since then my father is living and justifying both the roles . He is loving and guiding us,as my mother used to do. Dad thinks that his children are still innocent, though we four are all married and well settled.I am miles away from him, yet my presence is always felt there and when we visit there, it becomes so festive. If a son becomes 'aankh ka tara' of his wife, then one should not forget that few decades ago father became the shining star in mom's eyes. History repeats itself !Daaddy goes for walk and cooks for himself. Now a days my father is engaged in construction [rather extension] of his house at the age of 70.And who is helping him? His children of course ! My elder sister and brother are his strong support. I also do not fail to add my two cents while talking to dad on phone.My Dad says…." Mere bachhe muul hain aur mere damaad suud , grand children are 'Bonus' indeed.I regularly go for morning walk. One elderly person eagerly waits for me to greet him daily with a smile. . My greetings rejuvenates him and i see my Dad in him.A proud Daughter,Divyahttp://zealzen.blogspot.com/

  13. दिव्या जी..आपकी टिप्पणी ने कविता के उस अंश को भी अभिव्यक्ति दी है जिसे सिर्फ आप या आप जैसी अनूभूति रखने वाला कोई और ही महसूस कर सकता था…कम से कम मैं तो नहीं.दरअसल इस कविता में, प्रारंभिक और अंतिम पैरा के आलावा कुछ भी मेरा नहीं है. जस का तस भाव उतारने का पराया किया है मैंने..जैसा सुना वैसा ..जैसा महसूस किया वैसा.. लिख दिया.आपने भी अपने मनोंभावों को जिस सरलता के साथ लिखा उसके लिए आभारी हूँ.

  14. देवेंद्र जी, अपनी आत्मा की इस बेचैनी को बचाए रखिए और परमात्मा से प्रार्थना है कि वह इस बेचैनी को नित नई उड़ान दे…आपकी बेचैनी हमें बेचैन करती है, झकझोरती है, सवाल पूछती है, नज़रें मिलाने को बाध्य करती हैं… और मजबूरी ये कि नज़रें चुराने का कोई स्कोप नहीं छोड़ती… यह कविता उसी की एक कड़ी है!!

  15. सच ही कहा बुजुर्ग ने। बहुत ज्ञान की बातें। दरअसल उन्होंने अपनी नहीं बल्कि घर घर की कहानी बयां कर दी। अब तो हर घर में ये होता है। कोई खास बात नहीं। अब तो खास बात तब हो जब किसी घर में ऐसा नहीं होता है। कविता बहुत शानदार है। बधाई। http://udbhavna.blogspot.com/

  16. आपके ब्‍लाग पर आकर हमारी बैचेन आत्‍मा को बहुत चैन आया। सरल और सहज शब्‍दों में आपने यह कविता कही । बधाई। सबसे अच्‍छी बात यह है कि इसमें कोई लाग लपेट नहीं है। चलिए अब हम बैचेन आत्‍मा को अपनी ब्‍लाग सूची पर ठिकाना दे रहे हैं । मुलाकात होती रहेगी। और हां आपने जो हैडर चित्र डाला है वह बहुत आकर्षक है। आपने गूगल से साभार लिया हम आपसे साभार ले रहे हैं अपने लैपटॉप स्‍क्रीन के लिए। शुभकामनाएं।

  17. शर्मींदगी की जब अति हो जाए तो कहावत है चुल्लू भर पानी मे डूब मरना इस कहावत से छेड करने की जुर्रत नहीं हुई …वैसे आपका सुझाव सर आँखों पर देवेन्द्रजी .

  18. बहुत सच्ची कविता है ! अपने आप बनी , निखरी ! सायास का ज़रा भी भार नहीं ! सहज ही सब ! और , दिव्या जी की टीप भी कविता की तरह सच्ची है ! सहज प्रविष्टि ! आभार !

  19. हाँ, हाँ, जानता हूँ…..बाग में प्रवेश करने कावह छोटा और सीधा रास्ता हैमगर आदत से लाचार हूँअपने द्वारा निर्धारित मार्ग और सिद्धांतों पर ही चलना पसंद करता हूँनमस्कार…..!!औरठीक वैसे हीजैसे कोई मझधार में फंसा व्यक्तिकिनारों कोहसरत भरी निगाहों से देखता है.मज़ा आ ग्या. कितना बड़ा सच बस यूं ही खेल-खेल में कह गये आप?

  20. शुक्रिया .आपकी ताज़ा रचना से लेकर घसियारिन तक हर पोस्ट ……अच्छी .उम्दा ,बेहतरीन . liked your aquarium-clock-screensaver too.

  21. जीवन दर्शन की अनोखी दास्तान है आपका ब्लॉग…और कविता ये भी बहुत कुछ सीखा गयी

  22. कविता स्वानुभूत अंश का पुनराख्यान जैसी लगती है..खासकर अपने मार्ग और अपने सिद्धांतों पर चलने वाले व्यक्ति जीवन से कभी भी हताश नही होता..पूरी कविता यही दोहराती है..हम जब तक किसी से अपेक्षा नही रखते हैं..तभी तक वे प्रीतिकर लगते हैं..ऐसे ही सांसारिक सुखों की नश्वरता मे हमारा विश्वास हमें उनमे लिप्त नही होने देता है..आपके बुजुर्ग जी भी उसी ’तेन त्यक्तेन भुन्जीथा’ के दर्शन को जीवन का सार बना कर चलते प्रतीत होते हैं..बेहद प्रेरणादायक और यथार्थपरक!!

  23. नारीसमझनाएक नारी कोशायद……..मुश्किल ही नहीं,असंभव है.नारी,आग का वह गोला हैजो जला सकती है,पूरी दुनिया.नारी,पानी का सोता हैवह बुझा सकती है,जिस्म की आग.नारी,एक तूफान हैवह मिटा सकती है,आदमी का वजूद.नारी,वरगद की छाया हैवह देती है, थके यात्री को,दो पल का आराम.नारी,एक तवा हैवह खुद जलकर मिटाती है,दूसरों की भूख.नारी,पवित्र गंगा हैवह धोती है सदियों से,पापियों का पाप.नारी,मृग तृष्णा हैजो पग बढ़ाते ही,चली जाती है दूर.नारी,लाजबन्ती हैवह मुरझा जाती है,छु देने के बाद.नारी,सृष्टी हैवह रचती है रोज,एक नई संसार.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s