नव वर्ष के शुभ संदेशे

…………………………………………

पहले प्रीतम की पाती में
अब आते मोबाइल में।
नया साल शुभ हो कहते हैं
नई अदा, स्टाईल में।

कभी इधर तो कभी उधर को
दौड़ा-भागा करते है
सबकी खुशियों की खातिर ये
हरदम जागा करते हैं

मरहम के फाए होते हैं
छोटी सी स्माईल में। [नया साल शुभ हो……]

झूठे निकले शुभ संदेशे
आए पिछले सालों में
रीते अपने सभी सपन घट
दुनियाँ के जंजालों में

कहते फेंको ऐसी बातें
रद्दी वाली फाईल में। [नया साल शुभ हो……]

Advertisements

49 thoughts on “नव वर्ष के शुभ संदेशे

  1. कभी इधर तो कभी उधर कोदौड़ा-भागा करते हैसबकी खुशियों की खातिर येहरदम जागा करते हैंxxxxxxxxxxxxxxxxतकनीक का जमाना है भाई …..सम्यक कविता ……शुक्रिया आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

  2. मरहम के फाए होते हैंछोटी सी स्माईल में।वाह वाह देवेन्द्र भाई, बहुत ही प्रशंसनीय प्रस्तुति| बधाई|

  3. सटीक अभिव्यक्ति।मरहम के फाए होते हैंछोटी सी स्माईल में।—- अब किसी के पास समय ही नही ये फाहे रखने का। अच्छी रचना। बधाई।

  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी हैकल (23/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकरअवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।http://charchamanch.uchcharan.com

  5. वाह……वाह…..वाह…क्या बात कही..मिजाज झूम गया…व्यंग्य भी, सत्य भी और शुभकामना भी, क्या क्या लपेट दिया आपने इन अनुपम पंक्तियों में…बहुत बहुत सुन्दर…

  6. पहले प्रीतम की पाती मेंअब आते मोबाइल में।नया साल शुभ हो कहते हैं नई अदा, स्टाईल में।अच्छी स्टाइल ,सुन्दर गीत.

  7. सच कहूँ तो पढ़ते-पढ़ते मैं गाने भी लगी ..खूब गुदगुदाया साथ ही झुमाया भी … नव वर्ष के लिए सुन्दर सन्देश ..आज का सच भी .

  8. झूठे निकले शुभ संदेशेआए पिछले सालों मेंरीते अपने सभी सपन घटदुनियाँ के जंजालों मेंकहते फेंको ऐसी बातेंरद्दी वाली फाईल में।भई वाह क्या अंदाज है…

  9. झूठे निकले शुभ संदेशेआए पिछले सालों मेंरीते अपने सभी सपन घटदुनियाँ के जंजालों मेंकहते फेंको ऐसी बातेंरद्दी वाली फाईल में।…यथार्थ दिखाती सुन्दर रचना …, नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

  10. आपकी कविता की भी नई स्टाइल है.जमाने के संग तो चलना ही पडेगा.मुस्कान को मरहम के फाहे बनाते हैं आप तो अछ्छा लगता है,मगर शुभकामनाओं को रद्दी की फ़ाइल में न फेकें.

  11. पहले प्रीतम की पाती मेंअब आते मोबाइल में।नया साल शुभ हो कहते हैंनई अदा, स्टाईल में।बात तो आपकी सही है। लिखा भी आपने ज़बरदस्त है।आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा।आपको क्रिसमस और नये साल की ढेरों शुभकामनाएँ।

  12. जिंदगी का हर फलसफा सही हैदिल ने जब-जब जो-जो चाहाहोठों ने वो बात कही है।किसी ने कहा है…जिंदगी आँखों से टपका बेरंग कतरातेरे दामन की पनाह पाता तो आँसू होता।..उम्दा पोस्ट । कविता का आपका अन्दाज निराला है ।क्रिसमस पर्व सहित नूतन वर्ष की अनेकों शुभकामनाएँ।

  13. साहब जैसा देस, वैसा ही भेस,कभी थी पाती, अब एस.एम.एस ;)शुभकामनाएँ।

  14. NAYA SAAL 2011 CARD 4 U_________@(________(@@(________(@please open it@=======@/”**I**”// “MISS” // “*U.*” /@======@“LOVE”“*IS*””LIFE”@======@/ “LIFE” // “*IS*” // “ROSE” /@======@“ROSE”“**IS**”“beautifl”@=======@/”beautifl”// “**IS**”// “*YOU*” /@======@Yad Rakhna mai ne sub se Pehle ap ko Naya Saal Card k sath Wish ki ha….मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s