सावन में……

मुझे याद है
घनी बरसात में
तुम चाहती थी
भींगना
और मैं
भींड़ की दुहाई दे
कोने में अड़ा था।

मुझे याद है
रिमझिम फुहार में
जिस पल
वृक्ष की सबसे ऊँची फुनगी पर बैठी चिड़िया
सुखा रही थी पंख
सज रहे थे
तुम्हारी बंद पलकों में
इंद्रधनुष
जग रही थी
उड़ने की चाह
और मैं
उड़न खटोले की जगह
छाता लिये
खड़ा था !

तपती धूप में
चलते-चलते
भूल जाता हूँ
सब कुछ
याद रहती है
मंजिल की दूरी
या जिस्म की थकान
मगर सावन में
याद आता है
बहुत कुछ
जैसे कि याद है
चोरी छुपे ही सही
जिंदगी के कुछ पल
जी लिया करता था
इतनी बुरी भी नहीं कटी
अपनी जिंदगी।
………………………………………

Advertisements

32 thoughts on “सावन में……

  1. मुझे याद हैरिमझिम फुहार मेंजिस पलवृक्ष की सबसे ऊँची फुनगी पर बैठी चिड़ियासुखा रही थी पंखसज रहे थेतुम्हारी बंद पलकों मेंइंद्रधनुषजग रही थीउड़ने की चाहऔर मैंउड़न खटोले की जगहछाता लियेखड़ा था !…. waah

  2. पांडे जी……चोरी छुपे ही सहीजिंदगी के कुछ पलजी लिया करता थाइतनी बुरी भी नहीं कटीअपनी जिंदगी।अति सुन्दर रचना….अद्भुत पोस्ट!!

  3. bahut sunder abhivykti……..dono hee sapne dekhne wale ho jae to poora koun karega sapne……..ha na……aapkee rachanae yatharth kee dhara par upajtee hai roots se judee hai…Aabhar.

  4. चोरी छुपे ही सहीजिंदगी के कुछ पलजी लिया करता थाइतनी बुरी भी नहीं कटीअपनी जिंदगी।क्या बात हैसंतोष सबसे बड़ी बात है…

  5. इस बेकसिये हिज्र में मजबूरिये इश्क हम उन्हे पुकारें तो पुकारे न बने …..वाह ..एक मनःस्थति की कविता !

  6. मुझे याद हैरिमझिम फुहार मेंजिस पलवृक्ष की सबसे ऊँची फुनगी पर बैठी चिड़ियासुखा रही थी पंखसज रहे थेतुम्हारी बंद पलकों में.गज़ब का अहसास. यही है जिंदगी.

  7. मुझे याद हैरिमझिम फुहार मेंजिस पलवृक्ष की सबसे ऊँची फुनगी पर बैठी चिड़ियासुखा रही थी पंखसज रहे थेतुम्हारी बंद पलकों मेंइंद्रधनुषवाह ..बहुत खूब कहा है आपने ।

  8. बहुत खूब कहा है आपनेचोरी छुपे ही सहीजिंदगी के कुछ पलजी लिया करता थाइतनी बुरी भी नहीं कटीअपनी जिंदगी।……….

  9. गज़ब देवेन्द्र जी … इतनी बुरी भी नहीं कटी जिन्दगी … फिर उनके भीने की इचा की यादें भी तो हैं पास में … रूहानी समा बाँध दिया इस रचना ने …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s