नाग नथैया

चित्र राष्ट्रीय सहारा के वाराणसी संस्करण से साभार। पूरा समाचार यहाँ पढ़ सकते हैं।

यह वाराणसी के तुलसी घाट पर 400 वर्षों से भी अधिक समय से प्रतिवर्ष  मनाया जाने वाला लख्खा मेला है। इसकी शुरूवात गोस्वामी तुलसी दास जी ने की और जिसे आज भी प्रदूषण रूपी कालिया नाग से मुक्ति हेतु चलाये जाने वाले अभियान के रूप में प्रतिवर्ष पूरे मनोयोग से मनाया जाता है। यह अलग बात है कि इतने प्रयासों के बाद भी गंगा में गंदी नालियों को बहना रूक नहीं रहा है। जल राशि निरंतर कम होती जा रही है। किनारे सिमटते जा रहे हैं। हर वर्ष वर्षा के बाद जब गंगा का पानी उतरता है तो  घाट पर जमा हो जाता है मिट्टी का अंबार। किनारे नजदीक से नजदीक होते जा रहे हैं…सूखती जा रही हैं माँ गंगे।  
रविवार, 30 अक्टूबर, ठीक शाम 4.40 बजे कान्हां कंदब की डार से गंगा में  गेंद निकालने के लिए कूदते हैं और निकलते हैं कालिया नाग के मान मर्दन के साथ। अपार भीड़ के सम्मुख कान्हां तैयार हैं नदी में कूदने के लिए। भीड़ में शामिल हैं वेदेशी यात्रियों के साथ एक बेचैन आत्मा भी..सपरिवार। बजड़े में ढूँढिये विदेशी महिला के पीछे हल्का सा चेहरा देख सकते हैं। मैने अपने कैमरे से भी कुछ तश्वीरें खीची लेकिन उनमें वह मजा नहीं है जो आज राष्ट्रीय सहारा के वाराणसी अंक में प्रकाशित इस चित्र में है। पास ही खड़े मेरे मित्र गुप्ता जी ने भी अपने मोबाइल से खींची कुछ तश्वीरें  मेल से भेजी हैं जिन्हें नीचे लगाता हूँ।
नाग को नथते हुए प्रकट हुए भगवान श्री कृष्ण

हम घाट के सामने बजरे पर बैठे हुए थे। कान्हां का चित्र पीछे सें खीचा हुआ है। मजे की बात यह कि श्री कृष्ण के निकलते ही काशी वासी जै श्री कृष्ण के साथ-साथ खुशी और उल्लास के अवसर पर लगाया जाने वाला   अपना पारंपरिक जय घोष हर हर महादेव का नारा लगाना नहीं भूल रहे थे।
चारों ओर घूमने के पश्चात घाट की ओर जाते श्री कृष्ण।

घाट किनारे खड़े हजारों भक्त बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं अपने कान्हां का। डमरू की डिम डिम और घंटे घड़ियाल के बीच आरती उतारने के लिए बेकल ।

इन्हें तो आप पहचान ही चुके हैं।
कौन कहता है कि बाबा तुलसी दास केवल राम भक्त थे ! वे तो कान्हां के भी भक्त थे। तभी तो उन्होने गंगा तट को यमुना तट में बदल दिया था। धन्य हो काशी वासियों का प्रेम कि वे आज भी पूरे मनोयोग से इस लीला को मनाते हैं।
जै श्री कृष्ण।

Advertisements

26 thoughts on “नाग नथैया

  1. हमें भी सूचना दे दिए होते महराज -आज तक इस दृश्य का आप सरीखा चाक्षुस आनंद नहीं उठाया !

  2. बाबा तुलसीदास ने सांस्कृतिक- प्रदूषण के साथ-साथ प्राकृतिक-प्रदूषण के विरुद्ध भी काम किया,यह जानकारी अच्छी लगी ! नीचे वाली फोटू तो 'इंटरनेशनल' हो चुकी है !

  3. एक तरफ हम कालिया रूपी प्रदूषण को मिटाने के लिए मेले भरते है दूसरी तरफ इन्हीं मेलों व पर्वो की आड़ में नदियों को प्रदूषण से भर डालते है|Gyan DarpanRajputsParinay

  4. सुन्दर तस्वीरों के साथ साथ बढ़िया जानकारी मिली! शानदार प्रस्तुती!मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-http://seawave-babli.blogspot.com/http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

  5. अच्छी जानकारी का आभार ………….हाँ ये चेहरा तो पहचाना हुआ है देव बाबू का और भाभी जी को प्रणाम|फुर्सत मिले तो जज़्बात की नयी पोस्ट ज़रूर देखें|

  6. आपका चेहरा तो दिखा नहीं . विदेशी महिला का भी नहीं दिख रहा . कुछ तो संतोष होता . :)लेकिन लास्ट वाली– जाने पहचाने से लग रहे हैं . शुक्रिया .

  7. हम भी अंतिम फोटो मे ही पहचान पा रहे हैं…गंगे को तो हम लोग पंगु बनाते जा रहे हैं। न जाने कितने कान्हा चाहिए प्रदूषण के मान मर्दन के लिए!

  8. इस बहाने ही कुछ प्रदूषण दूर हो सके , नंदियों , प्रकृति और मन का भी !ऐसा भी कोई उत्सव होता है , इससे पहले पता नहीं था …आभार !

  9. आपको सपरिवार उस भीड-भाड मे मजे ले-लेकर फोटो खिचवाते देखकर अछ्छा लगा.बनारसी सस्कृति मे आप खूब मजा ले रहे है और साथ ही उसका वर्णन भी कर रहे है.ये येक अछ्छी बात है.आपको समाजशास्त्र मे प्राइवेट एम. ये. कर लेना चाहीए.

  10. मैं वाराणसी में जब था, तब काम के बोझ के कारण यह नाग नथैया न देख पाया। अब आपके माध्यम से देखा। धन्यवाद।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s