वणिकोपदेश

जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना
जरूरत से ज्यादा कहीं जल न जाए।

मुद्रा पे हरदम बको ध्यान रखना
करो काग चेष्टा कि कैसे कमायें
बनो अल्पहारी रहे श्वान निंद्रा
फितरत यही हो कि कैसे बचाएं


पूजा करो पर रहे ध्यान इतना
दुकनियाँ से ग्राहक कहीं टल न जाए।

दिखो सत्यवादी रहो मिथ्याचारी
प्रतिष्ठा उन्हीं की जो हैं भ्रष्टाचारी
‘लल्लू’ कहेगा तुम्हे यह ज़माना
जो कलियुग में रक्खोगे ईमानदारी।


मिलावट करो पर रहे ध्यान इतना
खाते ही कोई कहीं मर न जाए।

नेता से सीखो मुखौटे पहनना
गिरगिट से सीखो सदा रंग बदलना
पंडित के उपदेश सुनते ही क्यों हो
ज्ञानी मनुज से सदा बच के रहना।


करो पाप लेकिन घडा भी बड़ा हो
मरने से पहले कहीं भर न जाए।





Advertisements

One thought on “वणिकोपदेश

  1. wah…devendraji…..kya khoob bani hai aapse ye yek shandar kavita…..jeete ranhe aap hajoron saal aur milati rahe longo ko padhane apaki rachananye.kanjoonso ki aap ne khal udhed di.

  2. नेता से सीखो मुखौटे पहनना गिरगिट से सीखो सदा रंग बदलनासत्य तो यही है वही सफल है जो रंग बदल लेता है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s